Breaking News
Home / India भारत / कांग्रेस अध्यक्ष पद पर वापसी को दिमाग में रख राहुल गांधी ने कृषि कानूनों पर सरकार को घेरने की तैयारी शुरू की | nation – News in Hindi – GoIndiaNews

कांग्रेस अध्यक्ष पद पर वापसी को दिमाग में रख राहुल गांधी ने कृषि कानूनों पर सरकार को घेरने की तैयारी शुरू की | nation – News in Hindi – GoIndiaNews

कांग्रेस अध्यक्ष पद पर वापसी को दिमाग में रख राहुल गांधी ने कृषि कानूनों पर सरकार को घेरने की तैयारी शुरू की

कृषि कानूनोंको लेकर कांग्रेस की आक्रामकता के पीछे राहुल गांधी की अपनी जमीन की राजनीति और उसका एजेंडा फिर से हासिल करने की इच्छा है (फाइल फोटो)

वहीं आदिवासियों की रक्षा के लिए ओडिशा (Odisha) की नियामगिरी पहाड़ियों में एक वेदांता परियोजना (Vedanta project) के खिलाफ भी उन्होंने आंदोलन किया था. उनका प्रिय प्रोजेक्ट भूमि अधिग्रहण बिल (land acquisition bill) था जिसे गरीब किसानों की भूमि की रक्षा के लिए यूपीए (UPA) लेकर आया था.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    September 29, 2020, 5:48 AM IST

(पल्लवी घोष)

नई दिल्ली. कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Congress leader Rahul Gandhi) की राजनीति जमीन के मुद्दे के साथ शुरू हुई थी- जब 2008 में एक सांसद के तौर पर उन्होंने मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के टीकमगढ़ में एक गरीब आदिवासी परिवार (Tribal Family) के यहां रुकने के बाद कलावती का मुद्दा उठाया था और मायावती (Mayawati) के खिलाफ गौतम बुद्ध नगर में 2011 के भट्टा परसौल गांव में उनका युद्ध शुरू हुआ था. उन्होंने एक परियोजना के लिए तत्कालीन मायावती सरकार द्वारा भट्टा पारसौल गांव (Bhatta Parsaul village) में जमीन छीनने के खिलाफ यह कदम उठाया था. उन्हें गिरफ्तार (Arrest) कर लिया गया और फिर रिहा कर दिया गया था.

वहीं आदिवासियों की रक्षा के लिए ओडिशा (Odisha) की नियामगिरी पहाड़ियों में एक वेदांता परियोजना (Vedanta project) के खिलाफ भी उन्होंने आंदोलन किया था. उनका प्रिय प्रोजेक्ट भूमि अधिग्रहण बिल (land acquisition bill) था जिसे गरीब किसानों की भूमि की रक्षा के लिए यूपीए (UPA) लेकर आया था. हालांकि जल्द ही यह आलोचना भी हुई कि राहुल गांधी ने किसानों के मुद्दों को छोड़ दिया और गायब हो गए. लेकिन अब वह वापस आ गये हैं. कृषि कानूनों (Farm Laws) को लेकर कांग्रेस की आक्रामकता के पीछे राहुल गांधी की अपनी जमीन की राजनीति और उसका एजेंडा (land politics and agenda) फिर से हासिल करने की इच्छा है.

राहुल-प्रियंका कृषि कानून आंदोलन पर कांग्रेस की रणनीति को बारीकी से तय कर रहेसूत्रों का कहना है कि राहुल और प्रियंका दोनों कृषि कानून आंदोलन पर कांग्रेस की रणनीति को बारीकी से तय कर रहे हैं. राहुल ने स्पष्ट कर दिया है कि इसे पूरी तरह से एक आंदोलन बनाना होगा. इसके लिए राज्यों और जिला इकाइयों को आगे बढ़कर कदम उठाना होगा और धीरे-धीरे केंद्र पर दबाव बनाना होगा. यही वजह है कि भगत सिंह डे पर राज्य प्रदेश कांग्रेस समितियों को आंदोलन करने के लिए कहा गया. यहां तक ​​कि एक सामान्य रूप से मितभाषी और अनिच्छुक पंजाब के मुख्यमंत्री को भी इसके लिए आना पड़ा. अमरिंदर सिंह एक दिन के धरने पर थे. वैसे उन्होंने यह कहकर विवाद पैदा कर दिया कि कृषि कानून किसानों को आईएसआई की गड़बड़ियों में फंसने के लिए असुरक्षित बना देंगे.

यह पूरा लेख अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

फिर कांग्रेस शासित राज्यों को सलाह देते हुए सोनिया गांधी का फैसला आया कि राज्यों को संविधान के अनुच्छेद 254 (2) के तहत कानून पारित करने की संभावना देखनी चाहिए जो राज्य विधानसभाओं को एक केंद्रीय कानून को ओवरराइड करने के लिए एक कानून पारित करने की अनुमति देता है जो तब आता है राष्ट्रपति की अनुमति के लिए भेजा जाता है. इसके पीछे सरल तर्क है और इसे राहुल गांधी ने आगे बढ़ाया.

यह भी पढ़ें: ई-चालान के बदले नियम! सड़क पर चेक नहीं किए जाएंगे डॉक्‍युमेंट्स, जानें नए नियम

सुप्रीम कोर्ट में गये मामले का मतलब शीर्ष अदालत का फैसला कृषि कानून के पक्ष में हो सकता है. और राफेल मामले की तरह यह उसके लिए एक हार के तौर पर देखा जाएगा.

Source link

About GoIndiaNews

GoIndiaNews™ - देश की धड़कन is an Online Bilingual News Channel - गो इंडिया न्यूज़ पर पढ़ें देश-विदेश के ताज़ा हिंदी समाचार और जाने क्रिकेट, बिज़नेस, टेक्नोलॉजी, धर्म, मनोरंजन, बॉलीवुड, खेल और राजनीति की हर बड़ी खबर

Check Also

उद्धव ने शिवसेना की पूर्ण बहुमत सरकार की जताई इच्छा, पवार ने ध्यान ही नहीं दिया – GoIndiaNews

शरद पवार और उद्धव ठाकरे की फाइल फोटो उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने शिवसेना के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *