Breaking News
Home / Business व्यापार / Indian economy run at fast pace Business Standard and Poors rating maintained Indias credibility – GoIndiaNews

Indian economy run at fast pace Business Standard and Poors rating maintained Indias credibility – GoIndiaNews

वैश्विक रेटिंग एजेंसी स्टैंडर्ड एंड पूअर्स (एसएंडपी) ने भारत की रेटिंग को बीबीबी माइनस (ट्रिपल बी निगेटिव) पर बरकरार रखा है। साथ यह भी कहा है कि भारतीय अर्थव्यवस्था का आउटलुक स्टेबल है और यह अगले दो से तीन वर्षों में फिर से तेज रफ्तार से दौड़ेगी। एजेंसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि  विकास दर काफी नीचे आ गई है और इस साल यह एक दशक के न्यूनतम स्तर पर पहुंच सकती है।

यह भी पढ़ें: डाकघर में जल्द कराएं एफडी, घट सकती हैं दरें, 2 % तक ऊंचा ब्याज मिल रहा है ब्याज

एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट में कहा गया है कि बुनियादी विकास के संकेत अभी भी अच्छे हैं और इसकी वजह से आने वाले दो से तीन वर्ष में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में आई गिरावट की भरपाई हो जाएगी। उल्लेखनयी है कि सरकारी एजेंसियों सहित रिजर्व बैंक ने भी कहा कि भारत की विकास दर चालू वित्त वर्ष में पांच फीसदी तक गिर सकती है जो इस दशक का न्यूनतम स्तर होगा।

GDP

यह भी पढ़ें: राहत भरी खबर: दूध के दाम बढ़ने की आशंका नहीं

हालांकि, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) का कहना है कि वित्त वर्ष 2020 में विकास दर 4.8 फीसदी तक पहुंच सकती है। आईएमएफ ने यह भी कहा था कि अगले वित्त वर्ष में इसमें तेजी आने की संभावना है और यह छह फीसदी तक पहुंच सकती है।

क्या है बीबीबी रेटिंग का मतलब

बीबीबी रेटिंग का मतलब होता है कि वह संस्था या देश अपने वित्तीय वादों को पूरा करने में सक्षम है। रेटिंग बरकरार रखने के बावजूद एसएंडपी ने भारत के बढ़ते राजकोषीय घाटे और कर्ज पर चिंता जताई है। उसने कहा है कि सरकार का राजकोषीय घाटा इसके अनुमान को पार कर चुका है।



Source link

About GoIndiaNews

GoIndiaNews™ - देश की धड़कन is an Online Bilingual News Channel - गो इंडिया न्यूज़ पर पढ़ें देश-विदेश के ताज़ा हिंदी समाचार और जाने क्रिकेट, बिज़नेस, टेक्नोलॉजी, धर्म, मनोरंजन, बॉलीवुड, खेल और राजनीति की हर बड़ी खबर

Check Also

सरकारी बैंकों को तीसरी तिमाही में पूंजी उपलब्ध करा सकती है मोदी सरकार – GoIndiaNews

वित्त मंत्रालय चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को पूंजी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *