Breaking News
Home / India भारत / जब कोई नहीं आया तो पत्नी को अकेले करना पड़ा पति का अंतिम संस्कार, लेकिन मुखाग्नि देने से इसलिए करती रही इंकार – GoIndiaNews

जब कोई नहीं आया तो पत्नी को अकेले करना पड़ा पति का अंतिम संस्कार, लेकिन मुखाग्नि देने से इसलिए करती रही इंकार – GoIndiaNews

जब कोई पड़ोसी और रिश्तेदार नहीं आया तो सुलेखा ने अकेले ही अपने पति का अंतिम संस्कार किया.

जब कोई पड़ोसी और रिश्तेदार नहीं आया तो सुलेखा ने अकेले ही अपने पति का अंतिम संस्कार किया.

सुलेखा का कहना था कि जो पति मुझे प्यार से ब्याह कर इस घर में लाया. इतने प्यार (Love) से रखा. मुझे कोई दुख-दर्द नहीं होने दिया, तो ऐसे में मैं अपने पति (Husband) को आग कैसे दे सकती हूं.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    October 22, 2020, 5:38 PM IST

अलीगढ़. किडनी खराब होने के चलते पति की मौत हो गई. पत्नी सुलेखा आशा कार्यकत्री है. घर में तीन छोटी बच्चियां थीं. पति की लाश घर में रखी थी. मौत (Death) की खबर पाकर पड़ोस (Neighbor) से कोई नहीं आया. थोड़ी दूरी पर ही रहने वाला देवर भी नहीं आया. किन्ही कारणों के चलते लोगों ने इस घर से दूरी बना ली. पति का अंतिम संस्कार (funeral) कैसे हो यह सोचते-सोचते रात हो गई. फिर जब कोई नहीं आया तो उस डॉक्टर को फोन किया जिस स्वास्थ्य केन्द्र (Health Center) पर आशा कार्यकत्री थी. यह सुन डॉक्टर (Doctor) चंद लोगों को लेकर उसके घर पहुंच गई. सारे इंतज़ाम कराए. लेकिन पत्नी ने पति को मुखाग्नि देने से मना कर दिया.

पत्नी बोली- जिसने प्यार दिया उसे आग केसे दे दूं

स्वास्थ्य केन्द्र की डॉक्टर और एक संस्था की मदद से सुलेखा के पति का शव शमशान घाट आ गया. अंतिम संस्कार का जरूरी सामान भी इकट्ठा कर लिया गया. चिता सजा दी गई. अब बारी थी कि मुखाग्नि कौन देगा. सुलेखा के साथ न उसके रिश्तेदार थे और न ही पड़ोस से कोई आया था. सुलेखा का कोई बेटा भी नहीं है. सिर्फ तीन बेटियां ही हैं.
यह भी पढ़ें- प्‍लाज्‍मा थेरेपी को बंद करने की तैयारी! दिल्‍ली सरकार ने केंद्र पर लगाए गंभीर आरोपतब लोगों ने सुलेखा से कहा कि वो अपने पति की चिता को आग दे. लेकिन सुलेखा ने मना कर दिया. बोली जिस पति ने प्यार दिया उसे आग कैसे दे दूं. जब वहां मौजूद लोगों ने उसे समझाया तो वो मुखाग्नि देने को तैयार हुई.

डॉक्टर ने सुलेखा की ऐसे करी मदद

सुलेखा ने जब फोन पर डॉक्टर को सारी बात बताई तो डॉ. आशु सक्सेना एक दूसरी आशा कार्यकत्री की मदद से सुलेखा के घर पहुंच गईं. पहले तो उसके पड़ोस वालों को जमकर खरी-खोटी सुनाई. उसके बाद एक संस्था उपकार के अध्यक्ष विष्णु कुमार बंटी को फोन पर सारी बात बताई. संस्था अध्यक्ष ने फौरन ही एक गाड़ी और कुछ लोगों को भेजा. गाड़ी से शव को शमशान घाट लाया गया. सभी सामान इकट्ठा कर सुलेखा के पति का अंतिम संस्कार कराया.

Source link

About GoIndiaNews

GoIndiaNews™ - देश की धड़कन is an Online Bilingual News Channel - गो इंडिया न्यूज़ पर पढ़ें देश-विदेश के ताज़ा हिंदी समाचार और जाने क्रिकेट, बिज़नेस, टेक्नोलॉजी, धर्म, मनोरंजन, बॉलीवुड, खेल और राजनीति की हर बड़ी खबर

Check Also

पोस्ट ऑफिस खाताधारकों के लिए बड़ी खबर, 11 दिसंबर से बदलने वाला है ये नियम – GoIndiaNews

क्या आपने भी पोस्ट ऑफिस में सेविंग्स खाता खुलवा रखा है? बता दें 11 दिसंबर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *