Breaking News
Home / Uttarakhand उत्तराखंड / कांग्रेस विधायक ने कहा भूखे मर रहे हैं मज़दूर, सरकार ने मुफ़्त राशन नहीं दिया तो त्याग देंगे अन्न-जल –  Congress MLA says, daily wagers are dying with hunger, if government doesnt porvide food hell quit eating too | uttarakhand – News in Hindi – GoIndiaNews

कांग्रेस विधायक ने कहा भूखे मर रहे हैं मज़दूर, सरकार ने मुफ़्त राशन नहीं दिया तो त्याग देंगे अन्न-जल –  Congress MLA says, daily wagers are dying with hunger, if government doesnt porvide food hell quit eating too | uttarakhand – News in Hindi – GoIndiaNews

कांग्रेस विधायक ने कहा भूखे मर रहे हैं मज़दूर, सरकार ने मुफ़्त राशन नहीं दिया तो त्याग देंगे अन्न-जल

क़ाज़ी निज़ामुद्दीन ने मुख्यमंत्री से मज़दूरों को एक महीने का मुफ़्त राशन देने की अपील की है.

मंगलौर से कांग्रेस विधायक क़ाज़ी निज़ामुद्दीन का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है.

रुड़की. कोरोना के चलते किए गए देश्व्यापी लॉकडाउन की वजह से दिहाड़ी मज़दूरों की दुर्गति की चर्चा दिन भर टीवी चैनलों और सोशल मीडिया पर रही. सरकार ने गरीब और दिहाड़ी मज़दूरों के लिए राहत का ऐलान भी कर दिया है और कई जगह राज्य सरकार ऐसे लोगों को खाना-पीना भी उपलब्ध करवा रही हैं. उत्तराखंड में मंगलौर से कांग्रेस विधायक क़ाज़ी निज़ामुद्दीन का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ है जिसमें वह मज़दूरों के भूखे होने और उन्हें राशन न दिए जाने पर भूख हड़ताल करने की चेतावनी दे रहे हैं.

भर्राए गले से की अपील 

गुरुवार शाम मंगलौर के विधायक क़ाज़ी निज़ामुद्दीन का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा. इसमें वह भर्राए हुए गले से मुख्यमंत्री से अपील कर रहे हैं कि तुरंत गरीब जनता और मज़दूरों को एक महीने का मुफ़्त राशन उपलब्ध करवाया जाए.

वीडियो में कांग्रेस विधायक कहते हैं, ‘मुख्यमंत्री जी आप और मैं तो अपने घर में खाना खा रहे हैं लेकिन मंगलौर में गरीबों, मज़दूरों के पास खाने को कुछ नहीं है और वह भूखे मर रहे हैं. इस वीडियो और पत्र के माध्यम से मैं आपसे अपील करता हूं कि इन्हें तुरंत एक महीने का मुफ़्त राशन उपलब्ध करवाया जाए.’48 घंटे की चेतावनी 

इसके साथ ही क़ाज़ी निज़ामुद्दीन ने मुख्यमंत्री को चेतावनी भी दी है कि अगर 48 घंटे में इन गरीब, मज़दूरों को राशन उपलब्ध नहीं करवाया जाता तो वह अन्न-जल छोड़ देंगे. उन्होंने कहा कि वह ज़्यादा तो कुछ नहीं कर सकते लेकिन अगर मुख्यमंत्री ने उनकी बात नहीं मानी तो वह मुख्यमंत्री आवास के बाहर या जहां तक पुलिस उन्हें जाने देगी वहां पर अन्न-जल त्यागकर बैठ जाएंगे.

ये भी देखें: 

अल्‍मोड़ा: लॉकडाउन की घोषणा होते ही बिना पैसे दिए भागा ठेकेदार, भटकने को मजबूर मजदूर 

कोरोना की दहशत से गांवों को लौटे हज़ारों प्रवासी उत्तराखंडी… ग्रामीणों में दहशत और गुस्सा 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हरिद्वार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: March 27, 2020, 11:48 AM IST



Source link

About admin

Check Also

नेपाल ने अपनों के लिए बंद किए वापसी के रास्ते, ग्रामीणों ने बढ़ाए मदद के हाथ | uttarakhand – News in Hindi – GoIndiaNews

धारचूला में फंसे नेपाली मजदूरों की मदद के लिए ग्रामीण आगे आए बॉर्डर तहसील धारचूला …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *