Breaking News
Home / India भारत / 11 organizations come forward to help those trapped in the lockdown providing relief material Nodakm RJDS | लॉकडाउन में फंसे लोगों की मदद को आगे आए 11 संगठन, मिलकर पहुंचा रहे हैं राहत सामग्री | nation – News in Hindi – GoIndiaNews

11 organizations come forward to help those trapped in the lockdown providing relief material Nodakm RJDS | लॉकडाउन में फंसे लोगों की मदद को आगे आए 11 संगठन, मिलकर पहुंचा रहे हैं राहत सामग्री | nation – News in Hindi – GoIndiaNews

लॉकडाउन में फंसे लोगों की मदद को आगे आए 11 संगठन, मिलकर पहुंचा रहे हैं राहत सामग्री

संस्‍थाएं बेघर लोगों, कच्ची बस्ती के निवासियों और घुमन्तु जाति के लोगों तक राहत पहुंचाने का बंदोबस्त कर रही है.

लॉकडाउन (Lockdown) के चलते दो वक्‍त की रोटी के लिए मोहताज हुए करीब 2 हजार लोगों तक यह संस्‍था रोजाना भोजन और राशन (Ration) पहुंचा रही है.

जयपुर. लॉकडाउन (Lockdown) के बीच जरूरतमंदों को राहत देने के लिए संगठन एवं संस्थाओं ने भी अपनी-अपनी तरह से बीड़ा उठाया है. जयपुर में 11 जनसंगठन एकजुट होकर लॉकडाउन से प्रभावित गरीब और मजदूर तबके तक राहत पहुंचाने की मुहिम में जुटे हैं. इन जनसंगठनों ने इसके लिए बाकायदा एक वॉर रूम बनाया है, जहां सूचना आने पर प्रभावित व्यक्ति तक मदद पहुंचाई जाती है.

सामाजिक कार्यकर्ता कविता श्रीवास्तव के मुताबिक राजस्थान में 21 अप्रैल से लॉकडाउन की शुरुआत हुई थी और इसी दिन से जन संगठनों ने पीड़ितों तक मदद पहुंचाने की कवायद शुरू कर दी थी. इसके लिए पीयूसीएल संस्था के कार्यालय को वॉररूम में तब्दील किया गया है. लॉकडाउन से व्यापक स्तर पर प्रभावित लोगों तक वॉर रूम का नम्बर पहुंचाया गया है. साथ ही, जो वाहन राहत सामग्री लेकर जाते हैं, उन पर भी पूरा विवरण अंकित है.

कोशिश है कि हर जरूरतमंद तक पहुंचे मदद
उन्‍होंने बताया कि वॉर रूम में सहायता के लिए फोन आते ही टीम तुरन्त प्रभावित तक मदद पहुंचाने की कवायद में जुट जाती है. उसके साथ ही कार्यकर्ता खुद भी क्षेत्रों का दौरा कर प्रभावितों की पहचान कर रहे हैं, ताकि उन तक मदद पहुंचाई जा सके. खास तौर से बेघर लोगों, कच्ची बस्ती के निवासियों और घुमन्तु जाति के लोगों तक राहत पहुंचाने के बंदोबस्त हो रहे हैं. फिलहाल, संस्‍थाओं की तरफ से रोजाना करीब 2 हजार लोगों तक भोजन और राशन पहुंचाया जा रहा है.प्रशासन से भी मदद के इंतजाम
सामाजिक कार्यकर्ता कविता श्रीवास्तव के मुताबिक वॉर रूम पर देश भर से कॉल आते हैं. जन संगठन अपने स्तर पर तो इनको राहत के उपाय करते ही हैं. प्रशासन तक भी इनकी पीड़ा पहुंचाते हैं. हर रोज समस्याओं को लेकर प्रशासन और राज्य सरकार को पत्र के माध्यम से अवगत करवाया जाता है, ताकि उन तक मदद पहुंच सके. उनका यह भी कहना है कि लोगों के सामने सबसे ज्यादा समस्या राशन और शेल्टर को लेकर आ रही है. भारतीय खाद्य निगम के गोदामों में बड़ी मात्रा में अनाज का भंडारण है, जिसे पीड़ितों तक पहुंचाया जाना चाहिए.

मौजूद है डेटा
जनसंगठन चूंकि गरीब और वंचित तबके के बीच रहकर काम करते हैं, लिहाजा उनके पास पहले से ही ऐसे लोगों का कुछ डेटा मौजूद है. इस डेटा की मदद से प्रभावितों तक मदद पहुंचाने में सहायता मिलती है. वहीं लॉक डाउन में राहत पहुंचाने के दौरान भी झुग्गी झोपड़ियों का सर्वे किया जा रहा है और डिटेल लिखी जा रही है कि उन्हें किस तरह की दिक्कतें आ रही हैं.

यह भी पढ़ें:  

Corona Warrior:जोधपुर में SHO अपना कमरा कांस्टेबल को देकर खुद कार में सोते हैं

COVID-19: उदयपुर में क्वॉरेंटाइन किए गए श्रमिक बने ‘Corona Warrior’

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: April 18, 2020, 11:48 PM IST

Source link

About GoIndiaNews

GoIndiaNews™ - देश की धड़कन is an Online Bilingual News Channel - गो इंडिया न्यूज़ पर पढ़ें देश-विदेश के ताज़ा हिंदी समाचार और जाने क्रिकेट, बिज़नेस, टेक्नोलॉजी, धर्म, मनोरंजन, बॉलीवुड, खेल और राजनीति की हर बड़ी खबर

Check Also

ब्रिटेन की इस कंपनी ने शुरू किया कोविड-19 वैक्सीन का प्रोडक्शन, तैयार करेगी 2 अरब डोज़ – British company AstraZeneca plc started manufacturing of potential covid 19 vaccine | business – News in Hindi – GoIndiaNews

ब्रिटिश कंपनी ने वैक्सीन की मैन्युफैक्चरिंग शुरू कर दी है. AstraZeneca Plc ने संभावित कोरोना …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *