Breaking News
Home / Technical तकनीकी / Fact Check: क्या सरकार ने गूगल और एप्पल को चीनी ऐप्स हटाने का दिया है आदेश, जानें वायरल खबर का सच | fact check Government denies passing an order to restrict Chinese apps from Google Play and Apple Store | tech – News in Hindi – GoIndiaNews

Fact Check: क्या सरकार ने गूगल और एप्पल को चीनी ऐप्स हटाने का दिया है आदेश, जानें वायरल खबर का सच | fact check Government denies passing an order to restrict Chinese apps from Google Play and Apple Store | tech – News in Hindi – GoIndiaNews

Fact Check: क्या सरकार ने गूगल और एप्पल को चीनी ऐप्स हटाने का दिया है आदेश, जानें वायरल खबर का सच

चीनी ऐप्स पर सरकार ने नहीं लगाया है प्रतिबंध

गलवान घाटी (Galwan Valley) को लेकर भारत और चीन में तनाव के बीच सोशल मीडिया पर चीनी ऐप्स को लेकर एक मैसेज वायरल हो रहा है. इस मैसेज में कहा गया है कि सरकार ने गूगल और एप्पल के क्षेत्रीय अधिकारियों को प्ले स्टोर से चीनी ऐप को हटाने का निर्देश दिया है.

नई दिल्ली. बीते कुछ दिन से सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स के नेशनल इन्फॉर्मेटिक्स सेंटर (NIC) ने एक आदेश जारी किया है. इस वायरल मैसेज के मुताबिक, सरकार ने गूगल प्ले स्टोर (Google Play Store) और एप्पल ऐप स्टोर पर कुछ चीनी मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया है. अब सरकार ने इसे स्पष्ट करते हुए कहा है कि गूगल या ऐप्पल को ऐसा कोई आदेश नहीं दिया गया है. यह खबर झूठी है.

इन ऐप्स को लेकर फैला झूठ
इस मैसेज में कहा गया है कि केंद्र सरकार ने गूगल और एप्पल के क्षेत्रीय अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वो तत्काल प्रभाव से चीनी ऐप को अपने प्लेटफॉर्म पर बंद कर दें. इसमें TikTok, VMate, Vigo Video, LiveMe, Bigo Live, Beauty Plus, CamScanner, Club Factory, Shein, Romwe, और AppLock जैसे ऐप्स का नाम शामिल है.

यह भी पढ़ें:- WhatsApp में इस वजह से आई बड़ी खामी, कई घंटे बंद रहा ये ज़रूरी फीचर…

यूजर्स की निजी जानकारी चुराने की बात
इन ऐप्स की लिस्ट में गेमिंग ऐप जैसे Mobile Legends, Clash of Kings, और Gale of Sultans का नाम भी शामिल है. पिछले कुछ दिनों में सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहे इस मैसेज में कहा गया है कि इन ऐप्स के जरिए यूजर्स की निजी जानकारी जुटाई जा रही है और इससे देश पर भी कोई खतरा आ सकता है.

इस मैसेज का खंडन करते हुए पीआईबी फैक्ट चेक (PIB Fact Check) ने कहा है कि यह मैसेज पूरी तरह से फेक है. सरकार के किसी भी विभाग की तरफ से ऐसा कोई निर्देश नहीं जारी किया गया है.

यह भी पढ़ें:- चीन की नई चाल! भारतीय कंपनियों को नुकसान पहुंचाने के लिए रच रहा है नई साजिश

LAC में तनाव के बीच वायरल हुआ यह मैसेज
बता दें कि भारत और चीन के बीच गलवान घाटी (Galwan Valley) में ​बीते सप्ताह में बढ़ते तनाव के बीच यह फेक मैसेज वायरल हो रहा है. सोशल मीडिया पर लोग चीनी उत्पादों के बायकॉट की मुहिम चला रहे हैं. इसके पहले एजुकेटर और इनोवेटर सोनम वांगचुक (Sonam Wangchuk) ने भी कहा था कि भारतीय लोगों को चीन में बनने वाले उत्पाद का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए और उन्हें अपने स्मार्टफोन से चीनी ऐप्स को अनइंस्टॉल कर देना चाहिए.

वांगचुक ने यह भी कहा कि चीन जानबूझकर केवल भारत ही नहीं बल्कि अन्य पड़ोसी देशों की सीमाओं पर तनाव बढ़ा रहा है, ताकि उसके घरेलू हालात पर दुनिया की नजर न जाए. चीन के बीजिंग शहरों में कोरोना वायरस के मामले लगातार तेजी से बढ़ रहे हैं.



First published: June 20, 2020, 7:33 PM IST



Source link

About GoIndiaNews

GoIndiaNews™ - देश की धड़कन is an Online Bilingual News Channel - गो इंडिया न्यूज़ पर पढ़ें देश-विदेश के ताज़ा हिंदी समाचार और जाने क्रिकेट, बिज़नेस, टेक्नोलॉजी, धर्म, मनोरंजन, बॉलीवुड, खेल और राजनीति की हर बड़ी खबर

Check Also

9 हज़ार से कम कीमत वाले Realme के इस धांसू फोन पर आज पाएं डिस्काउंट, मिलेंगे 4 कैमरे | gadgets – News in Hindi – GoIndiaNews

Realme Narzo 10A आज फ्लैश सेल में खरीदा जा सकता है. इस फोन की सबसे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *